*BREAKING:*2017-18 और 2018 की रिक्तियों के एवज में वरिष्ठ अनुवादकों की पदोन्नति के लिए एपीएआर और शास्तियों के साथ सतर्कता निकासी प्रमाणपत्र भेजना भी ज़रुरी *दिसम्बर,2018 में विभागीय पदोन्नति समिति की एक और बैठक के प्रयास ज़ोरों पर *उप-निदेशक(राजभाषा) के तौर पर पदोन्नति हेतु संयुक्त सेवावधि के प्रावधान को बहाल करने के लिए भर्ती नियमों में आशोधन की फाइल डीओपीटी को भेजे जाने की ख़बर *कनिष्ठ अनुवादकों की पदोन्नति के आदेश जारी करने की प्रक्रिया अंतिम चरण में *एसोसिएशन ने कनिष्ठ अनुवादकों के लिए 4600/-रु. के ग्रेड-पे की मांग को लेकर अदालत जाने का निर्णय लिया;सभी संबंधितों से संगत दस्तावेज़ उपलब्ध कराने का आग्रह।

Wednesday, 26 February 2014

कैट में सुनवाई निर्णायक दौर में पहुंची

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार,आज 1986 वाले मामले में कैट में बहस हुई। लगभग डेढ़ घंटे तक चली बहस के दौरान डबल बेंच के समक्ष केंद्रीय सचिवालय राजभाषा सेवा अनुवादक एसोसिएशन के वकीलों ने तमाम तथ्य रखे। किंतु यह बहस अनंतिम रही क्योंकि माननीय न्यायाधीशों ने मामले पर एक और तारीख़ को सुनवाई की इच्छा प्रकट की। लिहाजा,अगली तारीख़ 14 मार्च,2014 निर्धारित की गई है और उसी दिन इस मामले पर सकारात्मक फैसला आ जाने की संभावना है।

No comments:

Post a Comment

अपनी पहचान सार्वजनिक कर की गई आलोचना का स्वागत है। किंतु, स्वयं छद्म रहकर दूसरों की ज़िम्मेदारी तय करने वालों की और विषयेतर टिप्पणियां स्वीकार नहीं की जाएंगी।