*BREAKING:*वरिष्ठ अनुवादकों की सहायक निदेशक के तौर पर नियमित पदोन्नति के लिए विभागीय समिति की बैठक 5 अक्टूबर,2018 को संपन्न। * अप्रैल 2017 से दिसम्बर 2018 तक की रिक्तियों के लिए वरिष्ठ अनुवादकों की पदोन्नति हेतु विभागीय समिति की बैठक कराने के प्रयास जारी *उप-निदेशक(राजभाषा) के तौर पर पदोन्नति हेतु संयुक्त सेवावधि के प्रावधान को बहाल करने के लिए भर्ती नियमों में आशोधन का प्रस्ताव डीओपीटी में अग्रिम चरण में। *राजभाषा विभाग ने सहायक निदेशकों को रिवर्ट किए जाने का आदेश वापस लेने का फैसला लिया।

Tuesday, 19 November 2013

छह उप-निदेशक संयुक्त निदेशक बने

हमने 11 अक्टूबर,2013 और 8 नवम्बर,2013 की पोस्टों में सूचित किया था कि छह उप-निदेशकों को संयुक्त निदेशक(राजभाषा) के रूप में पदोन्नत करने हेतु विभागीय पदोन्नति समिति की बैठक हो चुकी है और संबंधित आदेश किसी भी वक्त जारी हो सकता है। सचिव(राजभाषा) द्वारा कुछेक सूचनाएं मांगे जाने के कारण यह आदेश जारी होने में आंशिक विलम्ब हुआ। राजभाषा विभाग ने आज यह आदेश जारी कर दिया है।

अनुवादक एसोसिएशन की ओर से सभी पदोन्नत संयुक्त निदेशकों को बधाई और शुभकामनाएँ। 

2 comments:

  1. देर आयद दुरस्‍त आयद । आशा करते हैं कि इस वर्ष की समाप्ति से पूर्व सारी लंबित खुशियां (पदोन्‍नति, नियमितीकरण और 1986 के मामले, कनिष्‍ठ अनुवादकों को 4600 ग्रेड पे सहित) सभी को मिले ताकि नए वर्ष का स्‍वागत धूमधाम तरीके से कर सके ।

    ReplyDelete
  2. It is really good to know but its translators Association. How we translators are concerned with these promotions of JDs??? There are already 2 asso. working for their welfare....let them share n take credit of this achievement, though there is nothing like an achievement as its a routine affair of department !! Kindly focus on the issues of Translators...n share what is happening with them. What about the promotion from Sr. Translators to Asst. Directors ? If there is some problem then why dont association tell us ? And if there is no problem then why all these promotions are getting delayed....it has been months...and we are listening same answers. Plz share the actual position with ppl !!

    ReplyDelete

अपनी पहचान सार्वजनिक कर की गई आलोचना का स्वागत है। किंतु, स्वयं छद्म रहकर दूसरों की ज़िम्मेदारी तय करने वालों की और विषयेतर टिप्पणियां स्वीकार नहीं की जाएंगी।