*BREAKING:*2017-18 और 2018 की रिक्तियों के एवज में वरिष्ठ अनुवादकों की पदोन्नति के लिए एपीएआर और शास्तियों के साथ सतर्कता निकासी प्रमाणपत्र भेजना भी ज़रुरी *दिसम्बर,2018 में विभागीय पदोन्नति समिति की एक और बैठक के प्रयास ज़ोरों पर *उप-निदेशक(राजभाषा) के तौर पर पदोन्नति हेतु संयुक्त सेवावधि के प्रावधान को बहाल करने के लिए भर्ती नियमों में आशोधन की फाइल डीओपीटी को भेजे जाने की ख़बर *कनिष्ठ अनुवादकों की पदोन्नति के आदेश जारी करने की प्रक्रिया अंतिम चरण में *एसोसिएशन ने कनिष्ठ अनुवादकों के लिए 4600/-रु. के ग्रेड-पे की मांग को लेकर अदालत जाने का निर्णय लिया;सभी संबंधितों से संगत दस्तावेज़ उपलब्ध कराने का आग्रह।

Wednesday, 13 November 2013

55 उप-निदेशक नियमित होंगे,भर्ती नियमों पर जवाब की तैयारी,सीधी भर्ती पर निर्णय शीघ्र

*  प्रस्तावित भर्ती नियमों से संबंधित फाइल यूपीएससी को भेजी गई थी जिसने इस बारे में कुछ प्रश्न पूछे  थे जिनका जवाब विभाग द्वारा तैयार किया जा रहा है और फाइल शीघ्र ही यूपीएससी को पुनः भेजी जाएगी।

* सहायक निदेशक के 126 पदों को सीधी भर्ती/पदोन्नति के आधार पर भरे जाने से संबंधित प्रस्ताव डीओपीटी को भेजा गया था जिसने इस संबंध में कुछ विचारार्थ बिंदुओं पर स्थिति स्पष्ट करने के लिए फाइल राजभाषा विभाग को वापस भेजी थी। विभाग द्वारा संतोषजनक उत्तर के साथ इस फाइल को डीओपीटी भेज दिया गया है।

* जैसी कि पूर्व में सूचना दी गई थी,उप-निदेशकों को नियमित करने के लिए दिनांक 12.11.2013 को विभागीय पदोन्नति समिति की बैठक हुई है और पचपन तदर्थ उप-निदेशकों को नियमित करने का निर्णय लिया गया है। संबंधित आदेश किसी भी क्षण अपेक्षित है। एसोसिएशन की ओर से, सभी संबंधित उप-निदेशकों को अग्रिम  बधाई और शुभकामनाएँ।

1 comment:

  1. आदरणीय, प्रिय पदाधिकरीगण
    1. जेडी (ओएल) की डीपीसी को हुए लगभाग ढेड महीने के बाद भी आदेश नहीं निकले ।
    2. सहायक निदेशक के रिक्‍त पदों के बारे में कोई पुष्‍ट सूचना नहीं दी जा रही है ।
    3. आर आर का मामला यथावत: है ।
    4. जैसा हाल जेडी (ओएल) के आदेश का हो रहा है वैसा ही हाल डीडी (ओ एल) का होगा ।
    5. इसी तरह साल दर साल निकलते जाएंगे और हम राजभाषा विभाग की वेबसाइट देख-देख कर,
    रोज नई आशा लिए एसोसिएशन के प्‍यार में मरते जाएगें ।

    ReplyDelete

अपनी पहचान सार्वजनिक कर की गई आलोचना का स्वागत है। किंतु, स्वयं छद्म रहकर दूसरों की ज़िम्मेदारी तय करने वालों की और विषयेतर टिप्पणियां स्वीकार नहीं की जाएंगी।