*BREAKING:*वरिष्ठ अनुवादकों की सहायक निदेशक के तौर पर नियमित पदोन्नति के लिए विभागीय समिति की बैठक 5 अक्टूबर,2018 को संपन्न। * अप्रैल 2017 से दिसम्बर 2018 तक की रिक्तियों के लिए वरिष्ठ अनुवादकों की पदोन्नति हेतु विभागीय समिति की बैठक कराने के प्रयास जारी *उप-निदेशक(राजभाषा) के तौर पर पदोन्नति हेतु संयुक्त सेवावधि के प्रावधान को बहाल करने के लिए भर्ती नियमों में आशोधन का प्रस्ताव डीओपीटी में अग्रिम चरण में। *राजभाषा विभाग ने सहायक निदेशकों को रिवर्ट किए जाने का आदेश वापस लेने का फैसला लिया।

Tuesday, 3 December 2013

निदेशक पद से प्रतिनियुक्ति समाप्त

संवर्ग के लिए यह हर्ष का विषय है कि प्रस्तावित भर्ती नियमों में,निदेशक के 33 प्रतिशत पदों को प्रतिनियुक्ति से भरे जाने का प्रावधान हटा लिया गया है।

गौरतलब है कि इस मुद्दे को लेकर संवर्ग में काफी असंतोष का माहौल था और कई स्तरों पर पूर्व में इसपर विरोध दर्ज कराया गया था। पिछले कुछ वर्षों में,राजभाषा विभाग ने निदेशक के पदों को प्रतिनियुक्ति से भरने के लिए कई बार विज्ञापन भी जारी किए थे किंतु विभाग को कोई योग्य उम्मीदवार नहीं मिला। संयुक्त निदेशक के स्तर पर भी प्रतिनियुक्ति पर आए पदाधिकारी संवर्ग के कार्यों से अवगत न होने के कारण कार्यालय में अपेक्षित योगदान नहीं कर पाते थे जिसे देखते हुए प्रतिनियुक्ति का प्रावधान समाप्त करने के लिए निरन्तर प्रयास किया जा रहा था।

अब इस प्रावधान के हट जाने से,हमारे संवर्ग के संयुक्त निदेशक(राजभाषा) ही शत-प्रतिशत पदोन्नति प्रावधान के तहत निदेशक पद के लिए पात्र होंगे।


2 comments:

  1. आदरणीय महोदय,

    समय-समय पर काडर से संबंधित नवीनतम गतिविधियों की जानकारी देने के लिए आभारी हूँ। आप थोड़े दिनों के बाद संवर्ग के बारे में नई हलचलों का ब्यौरा देते रहते हैं, इससे सभी के लिए उपयोगी अद्यतन सूचना मिलती रहती है और इसके लिए आप धन्यवाद और साधुवाद के अधिकारी हैं।

    मान्यवर, आपने एक पिछली पोस्ट में सूचित किया था कि भर्ती नियम यूपीएससी द्वारा राजभाषा विभाग को लौटा दिए गए हैं। क्या निदेशक के पदों पर प्रतिनियुक्ति को हटाने का कार्य यूपीएससी के कहने पर किया गया है या राजभाषा विभाग ने अपनी ओर से यह पहल की है? क्या इस संशोधन को यूपीएससी का अनुमोदन मिल गया है? वर्तमान में भर्ती नियमों की क्या स्थिति है, क्या राजभाषा विभाग ने संशोधित भर्ती नियमों को यूपीएससी को भेज दिया है या अभी रा.भा. विभाग में ही इन पर मंथन किया जा रहा है? अगर ऐसी व्यवस्था हो जाती है, तो इससे संयुक्त निदेशकों से लेकर कनिष्ठ अनुवादक तक - सभी को लाभ होगा क्योंकि परिणामी रिक्तियाँ भरी जाएंगी।

    क्या सहायक निदेशक के पद पर DR की भर्ती की जाएगी, अगर हाँ, तो अनुपात कितने प्रतिशत रखा गया है?

    DPC होने के बावजूद अभी तक उप निदेशकों को नियमित करने संबंधी आदेश क्यों जारी नहीं किया गया है?

    तदर्थ निदेशकों को पिछले ढाई साल से रिक्त पड़े उप निदेशकों के पद पर कब पदोन्नत किया जाना है? क्या उन्हें नियमित और पदोन्नत एक-साथ किया जाएगा अथवा नियमितीकरण के बाद पदोन्नत किया जाएगा?

    आपने पिछले एक पोस्ट में सूचित किया था कि वरिष्ठ अनुवादकों को सहायक निदेशक के पद पर पदोन्नत करने की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है, उसकी अद्यतन स्थिति क्या है?

    आशा ही नहीं, वरन् पूर्ण विश्वास है कि आप अपने व्यस्त समय में कुछ क्षण निकालकर इस बारे में अवगत कराने का कष्ट करेंगे।

    सादर

    ReplyDelete
  2. उपरोक्त सवालों के जवाब राजभषा से जुडे सभी अनुवादक और अधिकारी जानना चाह्ते हैं. यदि उत्तर मिल जाय तो क्या बात बात।

    ReplyDelete

अपनी पहचान सार्वजनिक कर की गई आलोचना का स्वागत है। किंतु, स्वयं छद्म रहकर दूसरों की ज़िम्मेदारी तय करने वालों की और विषयेतर टिप्पणियां स्वीकार नहीं की जाएंगी।